आर.बी.आई. के डिप्टी गवर्नर ने बैंकों की थोक जमा पर निर्भरता की प्रवृत्ति का उठाया मुद्दा है ।



भारतीय रिजर्व बैंक (आर.बी.आई.के डिप्टी गवर्नर स्वामीनाथन जे. ने बैंकों बड़ी राशि के जमा पर निर्भरता की बढ़ती प्रवृत्ति को


बृहस्पतिवार को रेखांकित किया, जिससे लागत बढ़ती है और मुनाफा प्रभावित होता है। स्वामीनाथन ने बैंकों से अपने


ब्याज दर जोखिमों को प्रभावी ढंग से प्रबंधित करने का आग्रह किया और कहा है कि यदि वे अधिक राशि वाले थोक जमा पर बहुत अधिक निर्भर रहेंगे तो उनके लिए स्थिति कठिन हो जाएगी। स्वामीनाथन ने यहां भारतीय स्टेट बैंक द्वारा आयोजित एक आर्थिक शिखर सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा कि सबसे


अधिक असर शुद्ध ब्याज मुनाफे पर होगा, जिससे लाभ कम हो जाएगा। उस्वामीनाथन ने बैंकों में खराब काम-काज के तरीकों तथा प्रबंधन प्रक्रियाओं का मुद्दा भी उठाया।


Post a Comment

Previous Post Next Post